पैरालिसिस (लकवा) के लक्षण एवं घरेलू उपचार

symptoms and treatment of paralysis in hindi

दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको पैरालिसिस (लकवा) के लक्षण और बचाव के आसान तरीके बताएंगे। (symptoms and treatment of paralysis in hindi) आजकल की भागदौड़ भरी लाइफ में हर एक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी का सामना कर रहा है। कुछ बीमारी जानलेवा भी होती है, लेकिन सबसे खतरनाक बीमारी होती है लकवा। जिसे पैरालिसिस के नाम से भी जाना जाता है। यह एक दिमागी रोग है, जो कि रीढ़ की हड्डी में किसी बीमारी या फिर दिमाग में ब्लड सर्कक्युलेशन ठीक तरीके से न होने की वजह से होता है।

यह एक ऐसा रोग है, जिसमें रोगी के शरीर का आधा हिस्सा काम करना बंद कर देता है। मुंह आधा टेढ़ा हो जाता है और  मुंह से लार गिरने लगती है। रोगी को बोलने में भी दिक्कत होती है। रोगी व्यक्ति चलने फिरने में भी बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है।  हमारे देश में हर साल 15-16 लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आते है।

नोट:- लकवा अधिक टेंशन लेने से भी होता है।

पैरालिसिस (लकवा) होने का कारण

लकवा होने के वैसे तो बहुत से कारण हो सकते है; जैसे की दिमाग के किसी हिस्से में ब्लड सर्कक्युलेशन बंद होने की वजह से, हाई ब्लड प्रेशर, बैड कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से। लेकिन इनमें से सबसे मुख्य कारण दिमाग के किसी हिस्से में ब्लड सर्कक्युलेशन बंद होने की वजह होती है।दिमाग हमारे शरीर का सबसे अहम हिस्सा होता है और लकवे का सीधा संबंध दिमाग से है। क्योंकि जब दिमाग की खून की नलियों में कोई खराबी आ जाती है तो ब्रेन स्ट्रोक होता है, जो लकवे की मुख्य कारण बनता है।

लकवे के लक्षण

  • चेहरे का टेड़ा होना,
  • आंखों से कम दिखना,
  • हाथ या पांव में कमजोरी,
  • अचानक याददाश्त में कमजोरी आना,
  • बोलने में दिक्कत आना,
  • व्यवहार में परिवर्तन इत्यादि।

लकवे से बचने के लिए घरेलू उपचार

देशी गाय का घी

देशी गाय के घी की रोजाना 10-10 बूंद नाक में डाले, ऐसा करने से लकवा रोग जल्द ही ठीक होने लगता है।

लहसुन और सरसों का तेल

इस तेल को बनाने के लिए आपको 250 ग्राम लहसुन को 1 किलो सरसों के तेल की जरूरत पड़ेगी। लहसुन और सरसों के तेल को अच्छी तरह से उबल लें। जब तेल अच्छी तरह से  पक जाए तो उसे उतार कर, ठंडा करके छान लें। इस तेल से शरीर के उस हिस्से की मालिश करें, जो लकवे से ग्रस्त हो गया है।

सोंठ और उड़द

सोंठ और उड़द भी लकवा रोग ठीक करने में सहायक है। सोंठ और उड़द को बराबर मात्रा में उबालकर इसका पानी पीने से लकवा रोग में बहुत जल्द ही आराम मिलता है।

लहसुन और दूध

इस नुस्खे को बनाने के लिए सबसे पहले 25 ग्राम लहसुन को छिल लें और फिर लहसुन को पीसकर दूध में डालकर उबल लें। अच्छे से उबल जाने के बाद, गाढ़ा होने पर इसे उतारकर ठंडा कर लें और फिर रोगी को खिलाएं। ऐसा करने से रोगी धीरे धीरे ठीक होने लगता है।

कौन सी चीज से परहेज करें

  • अपने भोजन में घी – तेल का सेवन कम करें।
  • शराब बिल्कुल भी न पिएं।
  • नमक कम-से-कम खाएं।
  • जितना हो सके, स्मोकिंग से बचें।
  • पानी का सेवन उचित मात्रा में करें।
  • ज्यादा-से-ज्यादा ताजे फल और हरी सब्जियां खाएं।

ऐसी ही जानकारी पाने के आप हमारे Facebook page HindiArticlesOfficial को like करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *